Ghar ke mandir mein kitne diye jalana chahie | घर के मंदिर में कितने दीपक जलाने चाहिए ?

दोस्तो हम घर में हैं पूजा के समय जो दीपक जलाते हैं और आपके Ghar ke mandir mein kitne diye jalana chahie । घर के मंदिर में ही हैं एक दीपक जलाना पर्याप्त होता है और ईश्वर की चमक हम दीपक जलाकर अपने जीवन की के सारे समस्या से छुटकारा पा सकते हैं । आज आपको दीपक से जुड़े सारे जानकारी मिलने वाला है कि आखिर हमें तेल का दीपक जलाना चाहिए या घी का दीपक जलाना चाहिए । अगर हमने दिया जलाए हैं तो दिया का मुख किस दिशा में करना चाहिए और अगर हम घर में दीपक जलाते हैं तो वह किस स्थान में रखना चाहिए जिसे हमें और हमारे घर के लिए शुभ हो ।

घर के मंदिर में कितने दीपक जलाने चाहिए साथ ही घर में हमें कहां पर दीपक जलाना चाहिए । दीपक किस धातु का होता है , दीपक से दीपक क्या नहीं जलता , दीपक किस नेल का चलना चाहिए और घर के मंदिर में कौन सा दीपक जलाना चाहिए , घर के बाहर दीपक जलने से क्या होता है तेल के निल का दीपक किस दिन लगाना चाहिए साथी ही लस से दीपक कब जलाना चाहिए ‌। आज अब कुछ दिया से जुड़े सभी जानकारी मिलने वाला है की Ghar ke mandir mein kitne diye jalana chahie ?

Ghar ke mandir mein kitne diye jalana chahie
Ghar ke mandir mein kitne diye jalana chahie

Ghar ke mandir mein kitne diye jalana chahie ?

आप जब भी घर में हैं दीपक चलाती हो तो इस बात का याद रखे की जब भी आप दीपक प्रज्वलित करें तो दीपक दीप प्रज्वलित करना है । अगर आप जब भी बहुत या जलाती हो उसे सीधा रूप में धरती पर नहीं रखना है अब उस दीपा को किसी पात्र धातु पर रखें या किसी ऐसे चावल के ऊपर रखें जिससे दीपक का धरती पर स्पोर्ट्स ना होए ‌। भगवत गीता में लिखा है कि –

” पुस्तकों यज्ञ सूत्रम शो और बाबा संस्थान जो हो नवभारत विप्रो वन एच ओ तोष चंद्रा में जने हैं “‌‌

अर्थात अगर कोई इंसान दीपक को बिना आसन के धरती पर रखता है और यह क्यों पवित को धरती पर रखता है या फिर दीपक को धरती पर रखता है । वह व्यक्ति सौजन्य तकरीर कभी भी ब्राह्मण की घर में जन्म नहीं लेता है अर्थात वह व्यक्ति दोष का भागी होता है । Ghar ke mandir mein kitne diye jalana chahie ?

दीपक को क्यों धरती पर नहीं रखना चाहिए ?

Ghar ke mandir mein kitne diye jalana chahie
Ghar ke mandir mein kitne diye jalana chahie

दीपक को धरती पर नहीं रखना चाहिए क्योंकि कालिका पुराण में लिखा है कि – ” सर्वर सहा बासुमति सोहत निबंध एवं ‌ ओ कारियो पार्वती देवता पंप तथा बच्चा “

इस संसार में माता धरती सब कुछ सहन कर लेती है लेकिन जो कारण धरती माता को कष्ट देता है वह यह जो दीपक को चलाने के बाद धरती के ऊपर रखता है । धरती पर रखने का एप्स दिया को धरती माता कभी सहन नहीं कर पाता है ।‌ सदैव याद रखना कि कभी भी दीपक जलाने के बाद देवी देवता को धरती पर सीधा शरण नहीं रखना है ।

दीपक की बत्ती बुझाने का दंड किसे भुगतना पड़ा?

अगर आप जब दिपक को प्रज्वलित करते हैं उसके बाद अपने हाथों को प्रसारित कर लेना है । जो इंसान दिपक को चलाने के बाद अपने हाथों को साबित करता है दोष का भागी नहीं होता है । बरहन जानकी जो इंसान दीपक को चढ़ाने के बाद अपने हाथों को प्रसारित नहीं करता है वह तो उसका फागी होता है इसलिए आप दीपक जलाने की समय अपने हाथ को खोलिए और प्रार्थना कीजिए । आप हमेशा ध्यान रखें कि दीपक जलाने के बाद जल्द से जल्द ही प्रक्षालक करें ।‌

सरसों के तेल का दीपक जलाना चाहिए ?

घी का दिया जलाना चाहिए या सरसों तेल का दिया जलाना चाहिए ऐसे में आप शास्त्र का प्रमाण देखेंगे तो , जो भक्त अपने घर में दीपक जलाए या की पोस्ट शुद्ध गाय का घी हो या तो उसका दीपक जलाए । या तो बहुत सरसों तेल का दीपक जलाएं अगर हम शास्त्रों को देखें तो कहीं पर भी यह उल्लेख नहीं किया गया है कि आप सरसों तेल से दीपक जला सकते हो ।

अगर आप घी का दिया जलाने में असमर्थ है तो तेल के माध्यम से आप दीपक जला सकते हो । भगवान की प्रसन्नता के लिए आप अन्य किसी तेल से भी दिया जला सकते हो ‌। आप सरसों तेल का इस्तेमाल करके भी दिया जला सकते हो Ghar ke mandir mein kitne diye jalana chahie.

तेल के निल का दीपक किस दिन लगाना चाहिए ?

हमने तेल का दीपक जलाया हो या घी का दीपक जलाया हो वह किस दिशा में रखना चाहिए यह भी जानना बहुत जरूरी है । हमारे शास्त्रों में कहा गया है कि वह हमेशा दक्षिण भाग में हैं रखना चाहिए । घी का दीप को हम दक्षिण भाग में रखना चाहिए और जो तेल का दीपक रहता है उसे अनुभाग में रखना चाहिए । Ghar ke mandir mein kitne diye jalana chahie तो ऐसे में हमें घी का दीपक को भगवान के दाहिने तरफ रखना है और तेल का दीपक को भगवान की बाएं तरफ रखना है ।

घर के मंदिर में कौन सा Diye जलाना चाहिए ?

Ghar ke mandir mein kitne diye jalana chahie
Ghar ke mandir mein kitne diye jalana chahie

अगर आप दीपक का मुख पूर्व दिशा में करते हो तो हो वह आपको अच्छी आय प्रदान करने में मदद करता है । आपको सुख समृद्धि लाकर देने वाला होता है और आपके मन को शांत करने वाला है उससे भी होता है । घर के मंदिर में हैं अगर आप दीपक को उत्तर भाग में जल आती हो तो आपके धन धन लाने का संभव बना होता है । अगर आप उसी देव को पश्चिम की तरफ मुंह करके चलाती हो तो वह आपके लिए दुख का कारण बनता है । अगर आप दीपू को दक्षिण देकर में वहां करके चलाती हो तो यह आपके लिए शुभ नहीं है ।

हमेशा आप दीपक जलाने की समय पूर्व दिशा की मां और उत्तर दिशा के वहां करके जलाई इसे आपको और आपके परिवार के लिए भी काफी फायदेमंद होता है । दीया चलाने का ही है मैन बातें हैं जिसे हमें याद करके दीपक जलाना चाहिए । ऐसे लोग को पता नहीं है कि कौन सी मोहन दीपा जलाना सही तरीका है तो उन लोगों के लिए यह दीपक चलाना एक सही तरीका है Ghar ke mandir mein kitne diye jalana chahie .

घर के बाहर दीपक जलने से क्या होता है ?

घर की बहार दीपक चलाने से हमें क्या फल मिलता है और किस तरह से हम दीपक जला सकते हैं ‌। अगर हम शास्त्रों का देखें तो इसमें पूरे उल्लेख किया गया है कि जब सतयुग था तो वहां मणियों का उपयोग न किया गया था और जो तृतीया जो हुए हैं बांसवाड़ा नदी का निर्माण किया गया था । द्वापर युग में रश्मि का प्रेक्षा गया था और इस कलयुग में और पास है इसके मेहमा बहुत ज्यादा रहती है ।

जो लोग अपने घर में दीपक जलाते हैं उन लोगों को एक शोध प्राप्त हो जाए और शोध मॉर्फास के आप स्वयं अपने हाथ में निर्मित करके आप उसको जरूर जलाएं । कई लोग बाजार से खरीद कर आते हैं जिसका फल ना हमें मिलता है इसमें कहा जाता है कि फल हर एक चीज में मिलता है लेकिन जो घर में अपने हाथ में , कपास की बाटी बनाकर अपने हाथ में चलाए तो वो और एक श्रेष्ठ का माना जाता है ।

‌दीपक किस नेल का चलना चाहिए ?

हमेशा दीपक आप कपास की हिना बत्ती को चलाइए और आप ज्यादा से ज्यादा घी का दीपक जलाने का प्रयास करिए । अगर आप तेल का दिया जलाना चाहते हो तो जो रक्षा सूत्र का धागा होता है जिसको हम हाथों से बनते हैं आप उसके भी श्रेष्ठ माना जाता है । कपास की पत्तियों का ज्यादा से ज्यादा इस्तेमाल करें ।

कपास के बद्दी जो कि बहुत ज्यादा लंबी भी नहीं होना चाहिए और वह बहुत ज्यादा छोटी भी नहीं होना चाहिए ‌। पतले पतले बत्तियां आप बनाकर पूजा निकले रखना है और आप इस कपास का दिया और को जलाया । सड़क में यह कहा गया है कि आप जो बत्ती को दाहिने हाथ में रखे हैं उसके लिए सिर्फ भर्ती क्या । अगर अपने चौपाई हाथ में बत्ती रखा है उसके लिए आप लाल बत्ती का प्रयोग करना चाहिए ‌।‌ आपने जो तानी हाथ में के का दीपक रखा है आप उसके लिए सदा सफेद बत्ती होती कपास की उसका प्रयोग करना चाहिए ।

दीपक से दीपक क्या नहीं जलता ?

आप उसके विपत्ति बनाकर बढ़िया से दीपक जला सकते , लाल रंग की बत्ती तेल के लिए प्रयोग करना चाहिए और सफेद रंग की बत्ती जी के लिए प्रयोग करना चाहिए । दीपक से दीपक नहीं चलता है इसका कारण यह है कि जो हमारी दीपक होता है वह घी की बनाई हुई दीपक होता है और एक तेल की बनाई हुई दीपक होता है । इन दो दीपक को आप चलाते हो तो इसमें जिओ वाला दीपक ज्यादा फायदा मन होता है जो पूजा के लिए भी माना जाता है ।

घी के दिए जलाना ke fayde ?

ऐसे कई लोग होते हैं जो कि की पत्ती को जलाते हैं जिससे हमें कई सारे फायदे मिलता है । ऐसे कई लोग होते हैं घी के साथ तेल को मिलाकर दिया जलाते हैं जो शास्त्र अनुसार सही नहीं है । इसलिए आप यह बात की ध्यान रखें कि आपको उनकी की बत्ती के साथ तेल की बत्ती नहीं मिलाना चाहिए ।‌ गे की पत्ती में आप सफेद रंग की पत्तियां लगा सकते हो और तेल की बत्ती से आप नाली का बत्ती लगा सकती हो ।

आप जब देवता के लिए दीपक जलाते हैं तब यह बात की ध्यान रखें कि आप बहुत ही आंखों कभी भी बार-बार ही लाना और उठाना मत कीजिए। अगर आप इन बातों का ध्यान नहीं रखते हो तो बहुत दीपक खंडित हो जाता है और आप जो मेन दीपक जलाए हैं भगवान के लिए वह वह दीपक को उठाकर कभी भी आप आरती मत करना । आरती आपको अलग से देव कौन लेकर करनी है और आपने जो देवता के लिए कर्म दीपा चलाती हो उसे कभी भी आरती नहीं करना है ।

घर के Mandir में कितने दीपक जलाने चाहिए ?

घर के मंदिर में है दीपक जलाने समय आपको दीया जलाने का मंत्र का उच्चारण करना चाहिए । आपने जो बत्ती बनाई है इसके लोग कितनी होनी चाहिए यह जानने के लिए आपको जो दीपक चला रहे हैं उसके जो लोग होती है वह 4 उंगली से ऊपर होता है तो वह दीपक दीपक नहीं है । दीपक की रोशनी होनी चाहिए कि वह आपकी यादों की चार अंगुल ताकि रहे इसे ऊपर ना जाए ।

Ghar ke mandir mein kitne diye jalana chahie इसे जुड़े हैं कुछ FAQS:-

1 . घर के Mandir में कौन सा दीपक जलाना चाहिए?

उत्तर : घर के मंदिर में हैं आपके का दीपक चलाइए इसे है कई सारे सुपर मिलता है और देवता भी प्रसन्न होते हैं ऐसे शास्त्रों में कहा गया है ‌।

2. कितने दीपक जलाना चाहिए?

उत्तर : हमारे हिंदू परिवार के लिए दीपावली के दिन तेरा दिया चलाना जरूरी है इसे हमारे हिंदू परंपरा के लिए भी अच्छा माना जाता है ।

3. दो मुखी दीपक जलाने से क्या होता है?

उत्तर : दो मुखी दीपक हमारी मां दुर्गा के लिए जलाए जाता है इसे कहा जाता है कि दो मुखी दीपक जलाने से हमारी दुर्गा मां प्रसन्न होते हैं ।

4. शाम को दीपक कितने बजे चलाना चाहिए?

उत्तर : अगर आप रात को दीपक जलाना चाहते हो तो या पूजा करना चाहते हो तो 5:00 से 7:00 बज के पीछे ही दीपक जलाएं । हमेशा आप दीपक जलाने से पहले याद रखेगी ही पूर्व देसाई या उत्तर दिशा की मुंह करके ही दीपक जलाए ।‌

5. (Ghar) घर में रोज दीपक जलाने से क्या होता है?

उत्तर : अगर आप घर में दीपक चलाती हो तो शुभ माना जाता है और मन को शांति मिलता है तथा घर कभी पूरी तरह से शांति रहता है ।

शेष भाग ( Conclusion ) :

दोस्तों आज सभी को घर में दीया जलाने की सही तरीका साथ ही के से दिया जलाएं इन सारे जानकारी मिल चुका है । Ghar ke mandir mein kitne diye jalana chahie और घर के मंदिर में कितने दीपक जलाने चाहिए ? दीया जलाने से हमारे घर में क्या होता है साथी किस प्रकार से दीपक जलाना चाहिए ।

आज आप सभी को इन सारी बातों के बारे में जानकारी मिला है कि आखिर आप दीपक किस तरह से जलाना चाहिए ताकि आपको शुभ फल मिले । दोस्तों अब दिया चलाना समय इन बातों का ध्यान रखें और सही तरह से दीया चलाई जिससे आपको और आपके परिवार को शुभ फल मिले ।

Also Reed :

Ghar Mein kitne diwar hona chahiye

Holashtak Kya Hota Hai

Leave a Comment